Sunday, March 3, 2013

चलन


ये चलन जाने कब से है,
इश्क़ का वास्ता रब से है !
यार तो सब ही हैं अपने,
पर रंजिशें भी सब से है !
जिस लम्हे तूने दिल तोडा,
तेरे मुरीद हम तबसे हैं !
उसे रंज है मेरी रुसवाई का,
अंजान मगर वो सबब से है !
या खुदा तेरे इंसाफ़ का सदका,
हालात तो मेरे गज़ब से हैं !!

7 comments:

  1. Superb!
    Good to read a great post after a long time
    यार तो सब ही हैं अपने,
    पर रंजिशें भी सब से है !
    awesome lines

    ReplyDelete
    Replies
    1. Very nice, thanks for sharing..
      pls visit my new blog and do share your views..
      USA NEWS TIME
      Thank you

      Delete