Friday, October 19, 2012

स्वतंत्रता


अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन हो रहा है,
सरे आम, सरे राह, सनन हो रहा है !

जनता की चिंता से मतलब नहीं है,
देश की चिंताओं पे मनन हो रहा है !

दोस्ती-दुश्मनी का तक़ाज़ा नहीं है,
गठबँधन का फ़िर से गठन हो रहा है !

बेईमानी का भी ये तरीका नहीं है,
ओछी नैतिकता का पतन हो रहा है !

वो कहते हैं इससे कोई नाता नहीं है,
पर तार-तार मेरा चमन हो रहा है !

1 comment: